अति पिछड़ों के लिए आरक्षण लागू करने के संबंध में जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

अति पिछड़ों के लिए आरक्षण लागू करने के संबंध में जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन
रायबरेली, 16 मई। महापद्म नन्द कम्युनिटी एजूकेटेड एसोसिएशन रायबरेली उ.प्र. द्वारा अति पिछड़ों के लिए संवैधानिक रूप से पृथक आरक्षण लागू करने के सम्बन्ध में राज्यपाल  को प्रेषित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा।
ज्ञातव्य है कि उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री एवं वर्तमान केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह द्वारा हुकुम सिंह की अध्यक्षता में सामाजिक न्याय समिति का गठन कर अति पिछड़ों को उनके हिस्से का आरक्षण देने का निर्णय लिया गया था जो आज भी प्रासंगिक है। इससे पूर्व वर्ष 1975 में छेदीलाल साथी की अध्यक्षता में सर्वाधिक पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन हुआ था। इस आयोग की संस्तुतियां अभी तक ज्यों की त्यों पड़ी हुई है। केन्द्र सरकार द्वारा गठित मण्डल आयोग के एक सम्मानित सदस्य एल.आर.नायक ने अति पिछड़ों के लिए पृथक आरक्षण दिए जाने की संस्तुति किया था। उन्होंने स्पष्ट कहा था कि जिस प्रकार बड़ी मछली छोटी मछली को निगल जाती हैं, उसी प्रकार समाज में बड़ी एवं अगड़ी जातियां छोटी तथा सर्वाधिक पिछड़ी जातियों का हक हड़प लेंगी। बिहार प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री जननायक कर्पूरी ठाकुर ने मुंगेरी लाल की अध्यक्षता में आयोग का गठन कर उनकी स्तुतितयों को लागू कर अति पिछड़ों को पृथक आरक्षण देने का काम किया था जिसे कर्पूरी ठाकुर फार्मूला के नाम से जाना जाता है। इसी के साथ ही तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश में भी अति पिछड़ों के लिए पृथक आरक्षण लागू है। रिर्पोटों एवं संस्तुतियों को ध्यान में रखते हुए कर्पूरी ठाकुर फार्मूला के आधार पर अन्य पिछड़ों वर्ग के लिए निर्धारित 27 प्रतिशत आरक्षण में से यादव, कुर्मी, जात, गुर्जर व लोध जैसी अगड़ी एवं दबंग जातियों को अल करते हुए अति पिछड़ों के लिए 15 प्रतिशत का आरक्षण अलग से संवैधानिक  रूप से प्रदान किये जाने की कृपा करें।
ज्ञापन देने वालों में डी.पी.नंद मण्डल संरक्षक, राम प्रकाश वर्मा अध्यक्ष,पी.एन.ठाकुर उपाध्यक्ष, जीवन मधुर उपसचिव, श्याम जीत शर्मा कोषाध्यक्ष, शिव बालक  सपाट, राजकपूर, कन्हैया लाल , राजकुमार, राजकुमार, हरीश देव, श्याम नारायण, सिद्धनाथ सेन, रामसुख, सुरेश कुमार, श्रीमती नीशा, श्री प्रेमचन्द्र,गंगा प्रसाद,रामकेवल वर्मा, पप्पू, रामानछ, रामविलास, विजय बहादुर, श्रीमती माधुरी, हरिश्चन्द्र, संतोष कुमार आदि मौजूद रहे।

shares