जम्मू: पाकिस्तानी गोलाबारी में दो अधिकारियों समेत 4 सीमा प्रहरी शहीद, एक आतंकी ढेर 

Spread the love
जम्मू।  रमजान में सीमा पर बड़े पैमाने पर खूनखराबा करने के लिए पाकिस्तानी रेंजर्स ने घात लगाकर हमला करते हुए दो अधिकारियों समेत 4 सीमा प्रहरियों को शहीद कर दिया। मध्य मई से जम्मू में पाकिस्तान की गोलाबारी में आठ सीमा प्रहरियों समेत 19 लोगों की मौत हुई है। अस्सी से अधिक लोग घायल हैं। बुधवार दोपहर पौने एक बजे के करीब जम्मू के फ्रंटियर मुख्यालय में सीमा सुरक्षा बल के शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। चंडीगढ़ से सीमा सुरक्षा बल के अतिरिक्त महानिदेशक जम्मू पहुंच रहे हैं। वहीं सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक केके शर्मा के जम्मू आने की अभी तक अधिकारिक रूप से पुष्टि नही की गई है।
पाकिस्तान ने मंगलवार रात पौने दस बजे के करीब पहले सांबा सेक्टर के रामगढ़ में नारायणपुर की चमलियाल पोस्ट पर पैट्रोलिंग कर रहे सीमा प्रहरियों पर स्नापर फायर किए व इसके बाद घायलों के बचाव में आए दल को निशाना बनाते हुए मोर्टार के गोले दागना शुरू कर दिया। यह हमला जम्मू में दोनों ओर के सीमा प्रहरियों के बीच सेक्टर कमांडर स्तर की फ्लैग मीटिंग के एक हफ्ते के बाद हुआ। शहीदों की पहचान सीमा सुरक्षा बल की 62 बटालियन के असिस्टेंट कमांडेंट जितेन्द्र सिंह, सब इंस्पेक्टर रजनीश, सहायक सब इंस्पेक्टर राम निवास व कांस्टेबल हंस राज के रूप में हुई है। जितेन्द्र सिंह राजस्थान के जयपुर के निवासी हैं। सीमा सुरक्षा बल ने इस पाकिस्तान रेंजर्स की नापाक हरकत करार देते हुए सीमा प्रहरियों पर पाकिस्तान की बार्डर एक्शन टीम का हमला होने से इंकार किया है। तीन सीमा प्रहरी मंगलवार देर रात को ही शहीद हो गए जबकि घायल रजनीश ने जम्मू के सैन्य अस्पताल में दम तोड़ दिया। इस हमले में पांच सीमा प्रहरियों के घायल होने की सूचना है। जिस इलाके में पाकिस्तान ने हमला किया है वहां पर 28 जून को बाबा दिलीप सिंह की मजार पर सीमा के दोनों ओर बाबा चमलियाल मेला लगना था।
सीमा सुरक्षा बल जम्मू फ्रंटियर के आई राम अवतार ने बताया कि पाकिस्तानी रेंजर्स ने पहले हमारी पैट्रोल पार्टी को गोलीबारी कर निशाना बनाया। इसमें कुछ जवान घायल हो गए, बाद में उन्हें बचाने के लिए आई सीमा सुरक्षा बल की रेस्कयू टीम पर पाकिस्तान ने दो मोर्टार के गोले दाग दिए।
उत्तरी कश्मीर के पनार, बांडीपोर में सुरक्षाबलों ने बुधवार को एक आतंकी को मार गिराया। फिलहाल,उसके अन्य साथियों की तलाशी जारी है। यहां यह बताना असंगत नहीं होगा कि बांडीपोर के पनार जंगल में गत सप्ताह से ही सेना के जवानों ने तलाशी अभियान जारी रखा हुआहै। जंगल में एक दर्जन से ज्यादा आतंकियों के छिपे होने की संभावना जताई जाती है।