नवरात्रि जैसी पावन पर्व पर जहाँ नवो देवी की पूजा की जाती हैं,ऐसे ही महान देश में हमारी माताओं और बहनो के साथ कही ना कही ग़लत होता है

 

 

 

नवरात्रि जैसी पावन पर्व पर जहाँ नवो देवी की पूजा की जाती हैं,ऐसे ही महान देश में हमारी माताओं और बहनो के साथ कही ना कही ग़लत होता है , उसका ज़िम्मेदार कोई और नहीं हम और आप हैं क्यूँकि अगर और आप यह समझ लेंगे तो हमारी माँ और बहन सुरक्षित महसूस करेंगी यह सारी बात कही और नहीं हम सब लोग अपने आस-पास देखते है लेकिन उसनवरात्रि जैसी पानवरात्रि जैसी पावन पर्व पर जहाँ नवो देवी की पूजा की जाती हैं,ऐसे ही महान देश में हमारी माताओं और बहनो के साथ कही ना कही ग़लत होता है , उसका ज़िम्मेदार कोई और नहीं हम और आप हैं क्यूँकि अगर और आप यह समझ लेंगे नवरात्रि जैसी पावन पर्व पर जहाँ नवो देवी की पूजा की जाती हैं,ऐसे ही महान देश में हमारी माताओं और बहनो के साथ कही ना कही ग़लत होता है , उसका ज़िम्मेदार कोई और नहीं हम और आप हैं क्यूँकि अगर और आप यह समझ लेंगे तो हमारी माँ और बहन सुरक्षित महसूस करेंगी यह सारी बात कही और नहीं हम सब लोग अपने आस-पास देखते है लेकिन उसके लिये कभी प्रयास नहीं करते है लेकिन इस नवरात्रि में हम सबको यह ज़रूर ध्यान दतो हमारी माँ और बहन सुरक्षित महसूस करेंगी यह सारी बात कही और नहीं हम सब लोग अपने आस-पास देखते है लेकिन उसके लिये कभी प्रयास नहीं करते है लेकिन इस नवरात्रि में हम सबको यह ज़रूर ध्यान दनवरात्रि जैसी पावन पर्व पर जहाँ नवो देवी की पूजा की जाती हैं,ऐसे ही महान देश में हमारी माताओं और बहनो के साथ कही ना कही ग़लत होता है , उसका ज़िम्मेदार कोई और नहीं हम और आप हैं क्यूँकि अगर और आप यह समझ लेंगे तो हमारी माँ और बहन सुरक्षित महसूस करेंगी यह सारी बात कही और नहीं हम सब लोग अपने आस-पास देखते है लेकिन उसके लिये कभी प्रयास नहीं करते है लेकिन इस नवरात्रि में हम सबको यह ज़रूर ध्यान दवन पर्व पर जहाँ नवो देवी की पूजा की जाती हैं,ऐसे ही महान देश में हमारी माताओं और बहनो के साथ कही ना कही ग़लत होता है , उसका ज़िम्मेदार कोई और नहींनवरात्रि जैसी पावन पर्व पर जहाँ नवो देवी की पूजा की जाती हैं,ऐसे ही महान देश में हमारी माताओं और बहनो के साथ कही ना कही ग़लत होता है , उसका ज़िम्मेदार कोई और नहीं हम और आप हैं क्यूँकि अगर और आप यह समझ लेंगे तो हमारी माँ और बहन सुरक्षित महसूस करेंगी यह सारी बात कही और नहीं हम सब लोग अपने आस-पास देखते है लेकिन उसके लिये कभी प्रयास नहीं करते है लेकिन इस नवरात्रि में हम सबको यह ज़रूर ध्यान द हम और आप हैं क्यूँकि अगर और आप यह समझ लेंगे तो हमारी माँ और बहन सुरक्षित महसूस करेंगी यह सारी बात कही और नहीं हम सब लोग अपने आस-पास देखते है लेकिन उसके लिये कभी प्रयास नहीं करते है लेकिन इस नवरात्रि में हम सबको यह ज़रूर ध्यान दके लिये कभी प्रयास नहीं करते है लेकिन इस नवरात्रि में हम सबको यह ज़रूर ध्यान द