एक नजर पिछड़े क्षेत्र के सड़को पर भी,निर्माण की मांग बगही-राजापाकड़ व रजवटिया से नहर पटरी होते हुए पगरा संपर्क मार्ग बदहाल,राह चलना मुश्किल

एक नजर पिछड़े क्षेत्र के सड़को पर भी,निर्माण की मांग
बगही-राजापाकड़ व रजवटिया से नहर पटरी होते हुए पगरा संपर्क मार्ग बदहाल,राह चलना मुश्किल
ऑडिशन टाइम्स न्यूज़
तमकुही(कुशीनगर) सत्ता मिलते ही सरकार ने सभी प्रमुख मार्गों को गडढामुक्त बनाने के साथ ही  हाइवे को जोड़ने वाले सड़को के निर्माण करने का फरमान तो जारी कर दिया, लेकिन तमाम प्रयासों के बाद भी लोगों के पक्के सड़क का सपना साकार नही हो रहा है। क्षेत्रीय लोग इन सड़कों के निर्माण के लिए चक्कर तो लगा रहे हैं परंतु न ही अधिकारी और न ही जनप्रतिनिधि ही निर्माण के लिए रुचि ले रहे हैं।
      तमकुही विकास खण्ड का एक ऐसा क्षेत्र जो आजादी के बाद से ही सड़क निर्माण के मामले में काफी पीछे रहा है, प्रदेश में निजाम बदलने के बाद और सरकार के सड़को के सम्बंध दिये गये फरमान के बाद लोगो को सड़क निर्माण की उम्मीदें बढ़ी और गढ्ढामुक्त सड़कों की समस्या से निजात मिलने की संभावना बढ़ गयी, लेकिन अब भी उनकी समस्या जस की तस बनी हुई है। इस क्षेत्र की बगही से होते हुए राजापाकड़ तक जाने वाली और रजवटिया नहर से पगरा बसन्तपुर गाव को जोड़ने वाली ऐसी दो सड़के है जो डुमरभार, मथौली, बभनौली, अमरवा खुर्द, पकड़ी गोसाई, धनतोली, पगरा प्रसाद गिरी, कपरधिका, पड़री विशुनदयाल, पगरा बसन्तपुर, खुदरा अहिरौली, पड़री राजा, मेहदिया, लबनिया आदि गावो को हाइवे से जोड़ती हैं और इन गाव के लोगों का उक्त दोनों सड़क प्रमुख मार्ग है, लेकिन जिम्मेदारो की उदासीनता से ये मार्ग जर्जर व बदहाल स्थिति में है और सड़क पर बने गढ्ढा में गिरकर आये दिन लोग चोटिल भी हो रहे हैं। क्षेत्रीय ग्राम प्रधान अमर प्रसाद, प्रधान प्रतिनिधि विजय प्रताप सिंह, गजेंद्र चौरसिया, डा. हरिश्चन्द्र यादव, प्रदीप सिंह,  लालबाबू कुशवाहा, मदन प्रसाद, शिवजी कुशवाहा आदि का कहना है कि इस सड़क के निर्माण को लेकर अनेकों बार जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों को अवगत कराया गया हैं लेकिन समस्या का समाधान नही हो रहा है और उबड़ खाबड़ सड़क पर चलना लोगों की विवशता बन गयी हैं। वही सड़को पर बने गढ्ढो में गिरकर ग्रामीण चोटिल हो रहे हैं। क्षेत्रीय लोगों ने सड़क निर्माण कराकर समस्या समाधान कराने की मांग की है।