नईदिल्ली)उत्तर भारत में शीतलहर का प्रकोप जारी 0-उत्तराखंड में येलो अलर्ट

sheetlehar के लिए इमेज परिणाम
नई दिल्ली ,26 दिसंबर लगातार गिरते पारे के बीच उत्तर भारत में लगातार शीतलहर जारी है। उत्तराखंड में शीतलहर को लेकर यलो अलर्ट जारी किया गया है, जबकि राजधानी दिल्ली में एक हफ्ते तक शीतलहर चलने के आसार हैं। मौसम विभाग के मिली खबर में बताया गया है कि दिल्ली का न्यूनतम तापमान 3.8 डिग्री तक चला गया। जानकारी में रहे कि पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, उत्तरी राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पूर्वी मध्य प्रदेश शीतलहर की चपेट में है।
मैदानी इलाकों में अमृसर सबसे ठंडा रहा। यहां न्यूनतम तापमान 0.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर में सबसे ठंडा शहर रहा। पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिमी राजस्थान, उत्तराखंड और तमिलनाडु में घने कोहरे के कारण कई जगह दृश्यता 25 मीटर से भी कम रही। प्रदूषण और कोहरे से परेशान राजधानी पर सप्ताह भर शीतलहर का कहर के आसार हैं।
मौसम विभाग के अनुमान में बताया गया है कि बुधवार से शुरू होने वाली शीतलहर का क्रम 31 दिसंबर तक जारी रहेगा। इससे तापमान में गिरावट आएगी लोगों को कड़ाके की ठंड का सामना करना पड़ेगा। वहीं, राजधानी में लगातार चौथे दिन भी वायु गुणवत्ता की हालत गंभीर श्रेणी में बनी रही।
दिल्ली में बुधवार की सुबह घने कोहरे के साथ हुई। राजधानी के ज्यादातर हिस्सों पर सुबह के समय घना कोहरा छाया रहा। मौसम विभाग के पालम केन्द्र के मुताबिक सुबह आठ बजे दृश्यता का स्तर सबसे कम रहा।  इससे हवाई और रेल यातायात भी प्रभावित हुआ। मौसम विभाग का अनुमान है कि दिल्ली को 31 दिसंबर तक या उसके बाद भी शीतलहर का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान मौसम में गलन का अहसास बढ़ेगा। मौसम में ठंड बढऩे से पारा लुढ़ककर तीन डिग्री सेल्सियस तक भी जा सकता है।
दिल्ली में कोहरे और ठंड के कारण वायु प्रदूषण की स्थिति भी चिंताजनक बनी हुई है। हालांकि, सोमवार की तुलना में वायु गुणवत्ता में थोड़ा सुधार हुआ है लेकिन अभी भी यह गंभीर स्तर पर बनी हुई है। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक मंगलवार को दिन भर का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 409 रहा जो कि सोमवार के 448 के मुकाबले 39 अंक कम है।
मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में मैदानी इलाकों में शीतलहर को लेकर यलो अलर्ट जारी किया गया है। उधर, दून का न्यूनतम तापमान मंगलवार को सामान्य से दो डिग्री कम 4.2 डिग्री रहा। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि अगले 24 घंटों से शीतलहर चलने लगेगी। इससे मैदानों में कड़ाके की ठंड पड़ेगी। मंगलवार को मुक्तेश्वर में न्यूनतम जहां 1.7 डिग्री, नई टिहरी में 2.6 डिग्री रहा, वहीं पंतनगर में 2.8 और देहरादून में 4.2 डिग्री रहा। गिरते पारे के बीच मुनस्यारी में कुंडों का पानी जमने लगा है।
यूपी के शहरों में मुजफ्फरनगर सबसे ठंडा रहा। यहां पर न्यूनतम तापमान 1.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। वहीं इलाहाबाद, मेरठ, फैजाबाद, लखनऊ, बरेली में तापमान समान्य से काफी नीचे रहा। जबकि वाराणसी आगरा में भी तापमान समान्य से नीचे रहा। मौसम विभाग ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में घना कोहरा छाया रहेगा।
झारखंड में शीतलहर बढ़ती जा रही है। रांची के कांके का न्यूनतम तापमान 3.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के अनुसार वर्तमान सप्ताह के दौरान झारखंड में सर्दी कायम रहेगी। सर्द हवा और कुहासे से रात के तापमान में गिरावट आने की संभावना है। हवा की गति बढऩे से शीतलहर का प्रकोप बढ़ सकता है।
पंजाब और हरियाणा में दो सप्ताह से सामान्य से कम चला आ रहा तापमान मंगलवार को और गिर गया। मैदानी इलाकों में सबसे कम तापमान अमृतसर और आदमपुर में रहा जहां न्यूनतम तापमान 0.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अमृतसर में यह इस मौसम की अब तक की सबसे ठंडी रात थी। हरियाणा में नारनौल 2.5 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान के साथ राज्य का सबसे ठंडा स्थान रहा। मौसम विभाग के अधिकारी ने कहा कि पंजाब और हरियाणा में अगले कुछ दिन तक शीतलहर जारी रहने की संभावना है। राजस्थान में न्यूनतम तापमान में उतार-चढ़ाव के बीच राज्य के अनेक हिस्सों में घना कोहरा छाया रहा।
कश्मीर में चल रहे चिल्लई कलां के दौरान राजधानी श्रीनगर में पिछले 11 साल में सबसे ठंडी रात रही। यहां पारा शून्य से 6.8 डिग्री नीचे रिकॉर्ड किया गया। लगातार गिरते पारे के बीच शहर में कई जगह पानी के नल जम गए हैं वहीं डल झील की सतह पर बर्फ की परत जमने लगी है। वहीं घाटी के प्रवेश द्वारा काजीगुंड में शून्य से 5.3 डिग्री नीचे तापमान रिकॉर्ड किया गया। लद्दाख क्षेत्र को कश्मीर से जोडऩे वाला राष्ट्रीय राजमार्ग और ऐतिहासिक मुगल रोड मंगलवार को हिमपात होने के कारण फिर से बंद कर दिया गया।
हिमाचल प्रदेश में क्रिसमस पर शीत लहर का प्रकोप और बढऩे से केलांग में तापमान शून्य से नीचे 9.4 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। वहीं मशहूर पर्यटक स्थल मनाली में तापमान शून्य से नीचे 3.2 डिग्री सेल्सियस रहा। जनजातीय लाहौल और स्पीति जिले का प्रशासनिक केंद्र केलांग राज्य का सबसे ठंडा स्थान रहा।
मध्यप्रदेश के पूर्वर्ती हिस्से के एक दर्जन से अधिक शहर शीतलहर की चपेट में हैं। प्रदेश के पूर्वी हिस्से में आने वाले रीवा, सीधी, सिंगरौली, सतना, सहित छतरपुर, दतिया और ग्वालियर में कई दिनों से शीतलहर चलने के कारण जनजीवन पर खासा असर पड़ा है।
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial