अटल के जन्म दिन पर जनपद वासियों को मेडिकल कॉलेज की मिली सौगात

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई के जन्मदिवस के उपलक्ष्य पर सिद्धार्थनगर जनपद वासियों को मेडिकल कॉलेज का सौगात मिलने से जहां एक ओर जनपद वासियों में उत्साह एवं खुशी व्याप्त है, वहीं मेडिकल कॉलेज का नाम प्रथम भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वर्गीय माधव प्रसाद त्रिपाठी उर्फ माधव बाबू का नाम दिए जाने से बांसी व तिवारीपुर गांव के निवासियों ने माननीय मुख्यमंत्री महोदय के प्रति कृतज्ञता प्रकट किया है !
ज्ञातव्य है कि 25 दिसंबर  को  प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ ने सिद्धार्थनगर जनपद को  स्वर्गीय माधव प्रसाद त्रिपाठी मेडिकल कॉलेज के स्थापना की घोषणा किया है माधव बाबू  के नाम पर मेडिकल कॉलेज होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए समाजसेवी अतुल चंद्र त्रिपाठी, आलोक चंद्र त्रिपाठी, अधिवक्ता विपिन चंद्र त्रिपाठी ने कहा कि राष्ट्रहित की भावना से ओतप्रोत माधव बाबू का जीवन वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य से बिल्कुल भिन्न था वे सदैव  क्षेत्र के  विकास के लिए  तल्लीन रहते थे  उनका जीवन  सादा और सरल था ,उन्होंने माननीय मुख्यमंत्री महोदय को धन्यवाद दिया है तथा उनके नाम से बांसी तहसील एवं उनके पैतृक गांव तिवारीपुर में भी अन्य तमाम योजनाओं को मूर्त रूप दिए जाने की मांग भी किया है, भाजपा नेता अजय कुमार श्रीवास्तव, गौरी शंकर अग्रहरी, नंद कुमार वर्मा,बजरंगी वर्मा ने भी  माननीय मुख्यमंत्री महोदय  के साथ साथ चिकित्सा शिक्षा एवं प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन गोपाल क्षेत्रीय सांसद क्षेत्रीय विधायक को धन्यवाद दिया है और कहा कि आज का दिन सबसे सुखद दिन है जो कि माधव बाबू के नाम से मेडिकल कॉलेज की स्थापना कराई जा रही है, यह हमारे लिए अत्यंत  गौरवपूर्ण  दिन है  तथा  माधव बाबू  के नाम पर  इस कालेज की स्थापना  किया जाना उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि है,अधिवक्ता ओम प्रकाश द्विवेदी, दुर्गेश चंद्र द्विवेदी, आनंद मणि मणि त्रिपाठी,अजय शुक्ला ने कहा कि 226.4  करोड़ रुपए की लागत से बनाने वाला यह मेडिकल कॉलेज क्षेत्रवासियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है, भाजपा नेता ईश्वर चंद दुबे, प्रभास्कर राय, मंगल चौरसिया, अजय वर्मा, शंभू कश्यप ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री महोदय यहां की विकराल समस्या चिकित्सा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया जो कि सराहनीय है बांसी क्षेत्र की जनता अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रही है कि उनके क्षेत्र के देवतुल्य नेता के स्मृति में इस मेडिकल कॉलेज का निर्माण होगा ! सिद्धार्थ सिंह,रत्नेश श्रीवास्तव,मनोज कुमार द्विवेदी (मनोज बाबा) ने कहा  कि स्वर्गीय माधव बाबू  के नाम पर मेडिकल कॉलेज का निर्माण निश्चित रूप से उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि साबित होगी !
इस दौरान  धर्मेंद्र कुमार, रामबाबू ,हरेंद्र सिंह, अम्बरीश सिंह, जय प्रकाश श्रीवास्तव आदि ने माननीय मुख्यमंत्री महोदय को धन्यवाद ज्ञापित किया है !
स्वर्गीय माधव प्रसाद त्रिपाठी (माधव बाबू) का  संक्षिप्त परिचय
त्याग,संघर्ष,समर्पण,दृढ़ संकल्प एवं राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रणेता” स्व0 माधव प्रसाद त्रिपाठी जी”का जीवन-परिचय-
आम जन मानस मे “माधव बाबू”के नाम से विख्यात भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष पं0 माधव प्रसाद त्रिपाठी जी का जन्म 5 अगस्त 1912 को श्री कृष्ण जन्माष्टमी के दिन स्व0 पं0 सुरेश्वर प्रसाद त्रिपाठी एवं श्रीमती स्व0 राजकुमारी देवी के एक मध्यमवर्गीय परिवार मे सिद्धार्थ नगर (बस्ती )जनपद के बाॅसी तहसील के तिवारीपुर गांव मे हुआ था, तथा इनकी मृत्यु भी 19 अगस्त 1984 को श्री कृष्ण जन्माष्टमी के ही दिन हुआ था !
बचपन में ही पिता जी की मृत्यु हो जाने के कारण उनका सम्पूर्ण बाल्यकाल कष्टो में व्यातीत हुआ ।
अपने विद्यार्थी जीवन में वे एक अध्ययनशील, अनुशासनबद्ध,विनम्र तथा अंर्तमुखी व्यक्तित्व के छात्र के रूप में दृष्टिगत रहे । तथा उन्हें वैवाहिक जीवन मे तनिक भी रूचि नही थी जिसके लिये उन्होंने अपने परिवार से स्पष्ट रूप से कह दिया था कि “जो कोई हमारे शादी हेतु आये तो उनसे हाथ जोड़ लीजिएगा” ।
वे पेशे से वकील थे तथा अपने राजनीतिक जीवन मे वकालत के पेशे से आये ।  श्री नाना जी देशमुख तत्कालीन जनसंघ के प्रखर नेता थे, बस्ती जिले मे उनका कई बार कार्यक्रम हुआ था उनसे प्रभावित होकर “माधव बाबू”ने सर्वप्रथम राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और बाद मे जनसंघ की सदस्यता ग्रहण की , अनुशासन प्रिय और कर्तव्यनिष्ठ होने के कारण उन्होंने जल्द ही संघ मे अपनी एक पहचान बना ली , वे वकालत के साथ साथ  सामाजिक कार्यो मे भी अधिक रूचि लेते थे ।
उनकी तार्किक प्रतिभा और तात्कालिक सूझ बूझ उच्च कोटि की थी जोकि कालांतर के जीवन मे विधान सभा मे भी असंदिग्ध रूप से प्रमाणित हुई । वे मुखौटा विहीन शालीन और प्रखर नेता एवं वक्ता के रूप में विख्यात थे,भारतीय जनता पार्टी के अतिरिक्त अन्य विरोधी दलों मे भी उनका मान सम्मान कम नही था

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial