24 जनवरी 2019 संजय चौधरी जनपद बिजनौर✍✍✍✍✍✍
*शासकीय सेवा में अब वही अधिकारी एवं कर्मचारी रहेगें जो कार्य करने में रूचि रखते हों और अपने दायित्वों का निर्वहन करने में तत्तपरता के साथ कार्य करते हों, कामचोर और भ्रष्ट अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए शासकीय सेवा के द्वार बन्द- श्री पंकज कुमार, मिशन निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश शासन*✍✍✍✍✍✍✍
उत्तर प्रदेश शासन द्वारा नामित नोडल अघिकारी श्री पंकज कुमार, मिशन निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने विकास भवन के सभागार में आयोजित होने वाली कानून व्यवस्था एवं विकास कार्याे से संबंधित समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि इस महत्वपूर्ण कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाशत नहीं की जाएगी, इस लिए सभी अधिकारी विभागीय लक्ष्यों को शत प्रतिशत पूरा करना सुनिश्चित करें।    उन्होंने कहा कि राजस्व वसूली का कार्य बहुत ही महत्वपूर्ण है, विभिन्न मदों में प्राप्त होने वाले कर से अनेक जन कल्याणकारी एवं विकास योजनाओं को संचालित किया जाता है। उन्होंने कहा कि लक्ष्य के सापेक्ष वसूली कार्य न होने से शासन द्वारा संचालित महत्वपूर्ण कार्य प्रभावित होते हैं। अतः सभी अधिकारी इस अहम कार्य में अपनी गरिमापूर्ण भूमिका निभायें और विभागीय विकास कार्यो को पूर्ण गुणवत्ता के आधार पर पूरा करना सुनिश्चित करें। उन्होंने शासन की मंशा के अनुरूप स्पष्ट करते हुए कहा कि शासकीय सेवा में अब वही अधिकारी एवं कर्मचारी रहेगें जो कार्य करने में रूचि रखते हों और अपने दायित्वों का निर्वहन करने में तत्तपरता के साथ कार्य करते हों, कामचोर और भ्रष्ट अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए शासकीय सेवा के द्वार बन्द कर दिये गये हैं। उन्होनंे कहा कि जो भी अधिकारी एवं कर्मचारी अपने दायित्वों का निर्वहन गंभीरता और गुणवत्ता के साथ करने में अक्षम साबित हो रहे होगें और चेतावनी के बाद भी अपनी कार्यशैली में अपेक्षित परिर्वतन नहीं लाएगें, शासन के निर्देशों के अनुपालन में उन्हें सेवानिवृत्त किया जाएगा। उन्होनंे सभी अधिकारियों को सचेत करते हुए कहा कि अपने कार्य में अमूलचूल परिर्वतन लायें और विभागीय कार्याे को पूर्ण मानक एवं गुणवत्ता के साथ सम्पन्न कर उनका लाभ जन सामान्य को पहुंचाना सुनिश्चित करें। श्री पंकज कुमार ने उप जिलाधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि तहसील दिवस में आयी शिकायतों के निस्तारण पर ध्यान दिया जाये और उन्हे पूरी गुणवत्ता के आधार पर निस्तारित किया जाये। उन्होने समस्त उपजिलाधिकारियो को निर्देश देते हुए कहा कि जो कर्मचारी आउटसोर्सिग के आधार पर कार्य कर रहे है उनकी जांच की जाये ताकि किसी अन्य व्यक्ति को वेतन या कोई अन्य फायदा आउटसोर्सिग के नाम पर न मिल सके। श्री ंपकज कुमार ने विकास कार्याे की मासिक समीक्षा के दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि स्वास्थ्य विभाग के जिन नये भवनों के निर्माण के कार्य होने है उनके लिए भूमि आवंटित करा ली जाये और जिन कार्यों को पूरा नही किया गया है उन्हे जल्द से जल्द पूरा कराना सुनिश्चित करे। उन्होनंे स्पष्ट करते हुए कहा कि विकास कार्याे की प्रगति में शिथिलता एंव लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी और न ही कार्य में गुणवत्ता और मानक के साथ खिलवाड़ की अनदेखी की जाएगी। उन्होनंे कहा कि शासन विकास के प्रति गम्भीर और संवेदनशील है तथा विकास शासन की सर्वाेच्च प्राथमिकताओं में से है और प्रदेश को विकसित प्रदेश की श्रेणी में लाने के लिए कटिबद्व है। अतः कोई भी अधिकारी विभागीय लक्ष्य के सापेक्ष लापरवाही न करें और सभी कार्याे को पूर्ण गुणवत्ता के साथ निर्धारित समय सीमा में पूरा करना सुनिश्चित करें। उन्होनंे सचेत करते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग सहित जिन विभागों द्वारा विभागीय लक्ष्यों को शत प्रतिशत पूरा नहीं किया गया है, इस बार पुनवृत्ति होने पर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ़ कार्यवाही करते हुए उनके विरूद्व शासन को लिखा जाएगा। उन्होने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से पूछा कि स्कूली छात्र/छात्राओं के लिए यूनिफाॅर्म, पुस्तकों एवं जूतों का वितरण हुआ है अथवा नही, इस पर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि सभी स्कूलों में वितरण करा दिया गया है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने यह भी बताया कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए समय समय पर स्कूलों का आकास्मिक निरीक्षण किया जा रहा है। उन्होने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिऐ कि जिन विद्यालयों में लैब का निर्माण कराया गया है उनमें जल्द से जल्द लैब शिक्षक का पद भरा जाये। नोडल अधिकारी द्वारा बेसिक शिक्षा, पौष्टिक आहार योजना, स्वास्थ्य विभाग के तहत विभागीय निर्माण के अपूर्ण कार्य के अलावा जननी सुरक्षा योजना में लाभार्थियों को भुगतान, जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम, बाल स्वास्थ्य गारन्टी योजना, नियमिति टीकाकरण योजना, परिवार नियोजन योजना, लोनिवि में 50 लाख से अधिक लागत की सड़क निर्माण में पूर्ण परियोजनाओं की प्रगति, जल निगम विभाग की पाईप पेयजल योजना की प्रगति, छात्रवृत्ति, कृषि, सिंचाई, गन्ना, लोनिवि, महिला एवं शिुशु विकास कल्याण सहित अन्य विभागों की कार्याे की बिन्दुवार समीक्षा करते हुए सभी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये गये कि जिले को प्रदेश में अग्रणी बनाए रखने के लिए अपेक्षित प्रयास करें और सभी योजनाओं एंव कार्यक्रमों को निष्ठा और जिम्मेदारी के साथ क्रियान्वित करें।  बैठक के दौरान जिलाधिकारी अटल कुमार राय ने शासन द्वारा नियुक्त नोडल अधिकारी को आशवस्त करते हुए कहा कि उनके दिशा-निर्देशों का अक्षरतः अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा तथा विकास कार्याे की प्रगति को और अधिक बढ़ाया जाएगा।  इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक संजीव त्यागी, अपर जिलाधिकारी न्यायिक, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 शरद त्यागी, डी0एफ0ओं0, समस्त उप जिलाधिकारी, परियोजना निदेशक, उप निदेशक कृषि, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, सहित सभी विभागीय अधिकारी मोजूद थे✍

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial