ठगी के पैसों से खरीदे 3.60 लाख के सामान जब्त


कोरबा 6 जुलाई । कियोस्क सेंटर में खाता खुलवाने वाले ग्रामीण के प्रधानमंत्री आवास निर्माण हेतु जारी तीसरे किश्त की राशि में से 32300 रुपए की ठगीपूर्वक आहरण के मामले में गिरफ्तार संचालक की निशानदेही पर 3 लाख 96 हजार 400 रुपए के सामान व नगद बरामद कर जब्त किए गए हैं। 
याद रहे पाली थाना क्षेत्र के ग्राम दादरपारा ईरफ निवासी विनोद रोहिदास के बैंक गए बगैर उसके खाता से 32 हजार से अधिक रुपए निकालने के इस मामले की शिकायत पर बिलासपुर जिले के हिर्री से आरोपी सुरेश कुमार कंवर पिता गोकुलश्री कंवर 30 वर्ष को गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में सुरेश ने खुलासा किया कि ग्राम सुतर्रा निवासी विद्याधर मरावी की पत्नी श्रीमती सरस्वती मरावी के कियोस्क बैंक के आईडी पर वह उप ग्राहक सेवा केन्द्र चला रहा था। चैतमा में ग्राहक सेवा केन्द्र के जरिए प्रधानमंत्री आवास, मनरेगा, तेन्दूपत्ता बोनस, वृद्धा पेंशन आदि योजना के हितग्राहियों का खाता खुलवाते वक्त हितग्राहियों के फिंगर के साथ अपने फिंगर भी सिस्टम में अपलोड कर देता था। कुछ हितग्राहियों का फिंगर प्रिंट न लेकर अपना फिंगर प्रिंट लेकर हितग्राही के ऑनलाइन भरे जाने वाले फार्म में अपलोड करता था। वर्ष 2017 के अंतिम माह में खाता धारकों द्वारा स्टेट बैंक कटघोरा में शिकायत के बाद सुरेश उक्त कियोस्क सेंटर बंद कर चकरभाठा बिलासपुर में फोटोकापी की दुकान चलाने लगा। इसकी आड़ में वह चैतमा कियोस्क सेंटर के हितग्राहियों के खाता नंबर व सीआईएफ नंबर का फर्जी आईडी कार्ड तैयार कर चकरभांठा, सिरगिट्टी, बिल्हा, पेण्ड्रा के कियोस्क सेंटर से फर्जी ढंग से पैसा आहरण करने लगा। ठगी के पैसों से खरीदे मोटर साइकिल, कम्प्यूटर, स्कैनर, फोटोकापी मशीन, सीपीयू, लेमिनेशन मशीन, पेपर कटर मशीन, माइक्रो एटीएम स्कैनर, टैबलेट, लैपटाप, 24 नग फर्जी आईडी कार्ड, रबर स्टाम्प, मोबाइल, नगदी 35710 रुपए सहित कुल 3 लाख 96 हजार 400 रुपए का सामान बरामद कर जब्त किया गया। आरोपी को आज न्यायालय में पेश कर जेल दाखिल कराया गया। इस पूरी कार्रवाई में पाली थाना प्रभारी राजेश पटेल, चैतमा पुलिस सहायता केन्द्र प्रभारी एएसआई मंगतूराम मरकाम, आरक्षक रामरतन टंडन, रामकुमार पाटले, रामधन पटेल, हेमंत कुर्रे की भूमिका रही।

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial