अमित शाह के लखनऊ आगमन से पूर्व मुस्लिम बस्ती स्थितराबिया खान के निवास स्थान पर मुस्लिम के मध्य जाकर नागरिकता संशोधन अधिनियम पर चर्चा कर उनके भ्रम को दूर किया।

 महापौर ने उन्हें समझाते हुए कहा कि नागरिकता लेने का नहीं अपितु नागरिकता देने का अधिनियम है। और इससे भारतीय मुस्लिम या किसी भी वर्ग के भारतीय नागरिक के मौलिक अधिकार या उनकी नागरिकता पर कोई असर नही डालता।

महापौर ने बताया कि यह बात तो राष्टपिता महात्मा गांधी जी ने 1947 में ही कही थी कि “पाकिस्तान में रहने वाले हिन्दू और सिख हर नजरिये से भारत आ सकते है, और उन्हें नौकरी देने और उनके जीवन को सामान्य बनाना भारत सरकार का कर्तव्य होना चाहिए।” मोदी जी ने वहीं तो किया है।

वर्तमान नागरिकता अधिनियम संशोधन के बाद भी किसी भी भारतीय की नागरिकता छिनता नही है अपितु इससे पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से धार्मिक आधार पर प्रताणित व उत्पीड़ित अल्पसंख्यक शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता देने का अवसर प्रदान किया गया है।

महापौर ने आगे बताया कि कांग्रेस के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की अध्यक्षता में ही 1955 में नागरिकता अधिनियम भारत के नागरिकों के लिए बनाया गया था और मोदी जी ने कोई नया कानून नहीं बनाया है, तीन देशों के अल्पसंख्यक अर्थात जो विभाजन से पहले भारतीय नागरिक थे परन्तु दुर्भाग्य से भारत के विभाजन के कारण भारतीय नागरिकता से हाथ धो बैठे, इनको 11 वर्षों के इंतजार के स्थान पर 5 वर्ष बाद ही नागरिकता के लिए आवेदन कर नागरिकता प्राप्त कर सकते है। बस इतनी सहूलियत उनको दी गई है।

 पिछले महीने की 19 तारीख को जो लखनऊ में हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण था, हमारी गंगा जमुनी तहजीब को बिगाड़ने का कार्य षडयंत्र पूर्वक किया गया जो पुनः भविष्य में ना हो यह हमारी आपकी जिम्मेदारी है। किसी के बहकावें में मत आइये, यह लोग हमारा अमन चैन छीनना चाहते हैं। हम यह नहीं होने देंगे।

 महापौर ने भ्रम फैलाने और हिंसा का जिम्मेदार कांग्रेस को बताते हुए महिलाओं को समझाया कि प्रधानमंत्री आदरणीय नरेंद्र मोदीजी भारत मे व्याप्त सदियों पुरानी कोढ़ रूपी समस्याओं का इलाज कर रहे है, जिससे कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है, इसलिए वह जानते हुए भी जानबूझकर भ्रम फैलाकर स्वार्थवश अपनी राजनीतिक महत्वआकांक्षाओं को पूरा करना चाहती है।

 महापौर ने पूछा कि पिछले 6 वर्षों में आपको या अन्य भारत में रहने वाले मुस्लिम वर्ग के नागरिकों को कोई भेदभाव महसूस हुआ है ? महापौर ने याद दिलाया कि 2014 लोकसभा चुनाव से पहले भी इसी प्रकार देश में मुस्लिम समुदाय के लोगों को डराया जाता था कि BJP और मोदी आ गया तो सबको भारत से बाहर निकाल देंगे। परंतु उसके उलट सबकी चिंता बिना किसी भेदभाव के मोदी जी ने सभी 130 करोड़ भारतवासियों की करते हुए सबका साथ सबका विकास किया है।

उज्ज्वला से गैस सिलेंडर हो या आयुष्मान भारत के कार्ड हो सभी वर्गों के गरीब परिवारो को घर घर पहुचाने की व्यवस्था की।

 महापौर ने सभी मुस्लिम समुदाय से कांग्रेस और वामपंथियों द्वारा फैलाये गए मकड़जाल में न फसनें की अपील की।

आप मुझपर विश्वास कीजिये मोदी सरकार में हम सबका भविष्य पूर्ण सुरक्षित है।

 इसके साथ ही महापौर ने सभी मुश्लिम बहनों को कल बंगला बाजार स्थित कथा पार्क में  नागरिकता संशोधन अधिनियम पर भारत के गृहमंत्री अमित शाह जी की होने वाली विशाल जनसभा पर आमंत्रित करते हुए आमंत्रण पत्र भी दिया। बोली कि कल आकर अमित शाह जी को सुनिए सारा भ्रम दूर हो जायेगा।

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial